कामेच्छा कम करने के 5 सबसे प्रभावशाली उपाय| control your sex desire

How to control your sexual desire
How to control your sexual desire
Sex desire


कामेच्छा
मानव जीवन का एक महत्वपूर्ण अंग है। यह मनुष्यों के अन्य भावनाओं की तरह ही मन में उत्पन्न होने वाला एक भाव है। जो संसार में जीवन चक्र की‌ प्रक्रिया को क्रियान्वित करने के लिए आवश्यक है। इसलिए कामेच्छा को ईश्वर ने मनुष्य के भावनाओं और शारीरिक आवश्यकताओं में शामिल किया है, ताकि संसार में जीवन चक्र सामान्य रूप से चलता रहे।  परंतु आधुनिकीकरण के दुष्प्रभाव, तामसिक खान-पान, दूषित वातावरण, मनुष्य के अज्ञान और अनैतिक जीवन प्रणाली की वजह से कामेच्छा अब कामवासना का रुप ले चुका है और आज हमारे मानव समाज के लिए एक समस्या बन चुका है। आजकल लोगों के मन मेंं हमेशा कामवासना के गंदे विचार मन में आते रहते हैं। जो उनके जीवन को भयानक तरीके से प्रभावित करते हैं।

कामेच्छा के दुष्प्रभाव


कामवासना वैसे तो एक छोटी सी समस्या है। क्योंकि हम सभी के दिमाग में अच्छे बुरे विचार आते जाते रहते हैं, लेकिन इस छोटी समस्या का भयानक रूप तब दिखता है। जब हम ऐन मौके पर अपनी वासना को काबू में नहीं कर पाते, और हमसे कोई अनैतिक भूल हो जाती है। हमारे समाज में कामवासना की वजह से बलात्कार, हत्या, अनैतिक शारीरिक संबंध, और अप्राकृतिक यौनाचार जैसी बुराइयां जन्म ले रही है। हमारे दुनिया में इस समस्या की वजह से हर साल लाखों जिंदगियां बर्बाद हो रही है। लाखों रिश्ते टूट कर बिखर रहे हैं। जम्मू में आसिफा, दिल्ली में निर्भया और हैदराबाद  में प्रियंका के साथ जो हुआ वासना के इन्हीं गंदे विचारों का ही दुष्प्रभाव था। इसलिए आज हम इस पोस्ट में इसी समस्या के कारण और निवारण के बारे में बात करेंगे। इस आर्टिकल में हम आपको ऐसे पांच चमत्कारिक उपाय बताएंगे जिनसे आप अपनी कामवासना पर विजय प्राप्त कर सकते हैं। 

कामेच्छा कम करने के उपाय


यदि आपके मन में हमेशा कामवासना के गंदे ख्याल आते रहते हैं तो इसका मतलब है कि आप कहीं ना कहीं से इस कचरे को अपने दिमाग में डाल रहे हैं जिससे आपका दिमाग गंदा हो रहा है इसलिए सबसे पहले इन विचारों के उत्पत्ति के स्रोत को ही बंद करना होगा। अब मैं इसका स्रोत बताता हूं कि कहां से गंदे विचार आपके मन में आ रहे हैं। 

(1)  टेक्नोलॉजी का दुरूपयोग 

 आजकल इंटरनेट का पोर्न वीडियो देखने का चलन काफी बढ़ गया है। एक रिपोर्ट के मुताबिक लोगों मे में पोर्न वीडियो देखने का चलन पिछले 5 सालों में 3 गुना तेजी से
बढ़ा हैं। तो अदि आप भी इंटरनेट पर पोर्न वीडियो देखते हैं या अश्लील तस्वीरें देखते हैं तो आज और अभी से इस आदत से तौबा कर ले  क्योंकि पोर्न वीडियो देखने की वजह आपके अंदर  अप्रत्याशित रूप से यौन उत्तेजना बढ़ती हैं। अश्लील गीत भी आपके अंदर कामवासना को बढ़ाने का काम करते हैं।
(2) अश्लील पत्रिकाएं और मैगजीन  
  कुछ लोग मानसिक यौन सुख का आनंद लेने के लिए अश्लील  किताबें और मैगजीन पढ़ते हैं। जो धीरे-धीरे उनकी आदत बन जाती है, और भले ही यह सब चीजें उनको अच्छी लगती हो लेकिन इसके दुष्परिणाम बड़े ही भयानक होते हैं। क्योंकि यह किताबें उनको धीरे-धीरे गलत रास्ते की ओर ले जाती है,और एक दिन उन्हें कुकर्म और यौन अपराध के दलदल में धकेल देती है। इसलिए अभी आपके पास ऐसी कोई भी अश्लील पुस्तक है, तो बिना सोचे उसको जलाकर राख कर दें।

(3)  बुरी संगति से दूर रहें

 जैसा संग वैसा ढंग, वैसे तो यह काफी पुरानी कहावत है लेकिन ये सौ प्रतिशत सच हैंं। संगति का असर तो होता है। अगर आप ऐसे बुरे लोगों के साथ में रहते हैं जो अधिकतर सेक्स संबंधी अश्लील बातें करते रहते हैं तो उसका असर आप पर भी जरुर होगा,इसलिए ऐसे लोगों से हमेशा दूर ही रहेंं। हमनें कई सुयोग्य, गुणवान और प्रतिभाशाली युवाओं को ऐसे ही बिगड़ते देखा है।


(4) खुद को हमेशा व्यस्त रखें
 कहा जाता है कि खाली दिमाग शैतान का घर होता है। ऐसा अक्सर देखा जाता है कि जो लोग अकेलेपन के शिकार होते हैं वह बहुत जल्दी बुरी आदतों  शिकार हो जाते हैं, इसलिए अपने दिमाग को शैतान का घर ना बनने दें खुद को किसी न किसी अच्छे काम में हमेशा व्यस्त रखें।आप चाहे तो खाली समय में कोई रचनात्मक कार्य कर सकते हैं या कोई ज्ञानवर्धक पुस्तक पढ़कर खुद और बेहतर बना सकते हैं।


(5) तामसिक आहार का त्याग करें

तामसिक आहार जैसे मांस मदिरा,और सभी प्रकार के नशे का त्याग करें, क्योंकि नशा मनुष्य को पशुता की ओर ले जाता है। नशे के बस में इंसान अंधा हो जाता है उसे धर्म-अधर्म, नैतिक-अनैतिक,और पाप-पुण्य का कुछ भी ज्ञान नहीं रहता। हमारे समाज में अधिकतर अपराध नशे की वजह से ही होते हैं।इसलिए नशे से जितना ज्यादा दूर रहेंगे उतना ही अच्छा होगा। आप खुद सोचिए जब आप नशे में अपने शरीर को नियंत्रित नहीं कर पाते तो फिर अपने मन को कैसे नियंत्रित कर सकते हैं। 

● कामवासना पर कैसे विजय प्राप्त करें
भगवद् गीता में भगवान श्री कृष्ण कहा है " कि मन एक मुहंजोड़ घोड़े की भांति चंचल है "यह हमेशा अपनी मनमानी करना चाहता है। परंतु उस घोड़े के स्वामी आप हैं, घोड़ा आपका स्वामी नहीं है इसलिए अगर आपको उस पर सवार होकर अपनी मंजिल तक पहुंचना है तो आपको इस घोड़े को अपने वश में करना ही होगा। इस पर लगाम लगानी पड़ेगी। वरना बिना लगाम का घोड़ा आप को कहां लेकर जाएगा। आप स्वयं भी नहीं जानते हैं।आपका ये चंचल  मन हमेशा भौतिक और क्षणिक सुखों की आकांक्षा में भटकता रहता है परंतु आपका ये कर्तव्य है कि बुद्धि और विवेक की लगाम लगाकर उसको अपने बस में रखें। अतः आपको योगाभ्यास और अध्यात्म के सहारे अपने मन को बस में करने का प्रयास करना चाहिए।


● मन को शुद्ध कैसे करें
याद रखना वासना एक ऐसी आग है। जिसको आप जितना बुझाने की कोशिश करेंगे उतना ही और भड़कती जाएगी और इसके साथ साथ आपका तन और मन भी जीवन भर चलता रहेगा।आपको जीवन में कभी शांति नहीं मिलेगी इसलिए एक बार वासना के दलदल से निकलकर अध्यात्म की ओर बढ़ कर देखिए, ईश्वर की तरफ बढ़ कर देखिए आपको इतना शांति और सुकून मिलेगा कि आपका जीवन धन्य हो जाएगा मैं जानता हूं कि यह इतना आसान नहीं है इसके लिए आपको निरंतर अभ्यास करना पड़ेगा। अपने दूषित मन को शुद्ध करने के लिए पूजा पाठ करें, धार्मिक गतिविधियों में हिस्सा लें, सत्संग करें। के साथ-साथ आपकी मदद करने के लिए YouTube  पर हजारों-लाखों आध्यात्मिक और मोटिवेशनल वीडियो हैं। Internet पर हजारों ऐसी वेबसाइटें है, जिन पर विजिट करके आप अच्छी-अच्छी बातें और अच्छे विचार पढ़ सकते हैं। इसके अलावा आपको दुकानों में ऐसी कई अच्छी पुस्तकें मिल जाएगी जो आपको एक अच्छा इंसान बनाने में मदद करेगी। योग आसन में प्राणायाम और शांभवी मुद्रा मन को शांत और शुद्ध करने का सबसे उपयोगी साधन है।

आपको इससे भी पढ़ना चाहिए:संसार का सबसे भयंकर पाप कौन सा है, नरक में भी जगह नहीं मिलती

🙏 आशा करता हूं आपको इस आर्टिकल से कुछ ज्ञानवर्धक बातें सीखने को जरूर मिली होगी। इसी तरह के मोटिवेशनल वीडियो देखने के लिए आप हमारे YouTube channel 👈पर जा सकते हैं। धन्यवाद