जीवन मंत्र, अतीत की कड़वी यादों को भुलना सीखें

 


Jivan mantra,jine ki kala
जीवन मंत्र

कहते हैं, कि जीवन जीना एक कला है और जो व्यक्ति इस कला को जानता है। वहीं जिंदगी का भरपूर आनंद ले सकता है। इसलिए आज से हम एक श्रृंखला शुरू कर रहें हैं। जिसमें अगले कुछ पोस्ट में हम जिंदगी जीने की कला सीखाएंगे। दोस्तों यादें हमारी जिंदगी का एक अहम हिस्सा होती है जो जीवन के कठिन रास्तों पर हमारा मार्गदर्शन करती है लेकिन कुछ यादें ऐसी होती है जो केवल हमारे दिल पर एक बोझ बनकर रह जाती है इसलिए सुखी और खुशहाल जीवन जीने के लिए उन यादों को भुलना ही बेहतर होता है। अतः आज श्रृंखला के इस पहले चरण में हम अतीत की कड़वी यादों को भुलना सीखेंगे।


इसे भी पढ़ें-: हम दुखी क्यों हैं, आखिर हमारे दुखों का कारण क्या है ?


अतीत की कड़वी यादों को भुलाना सीखें




इंसान की जिंदगी से कुछ मीठी तो कुछ कड़वी यादें जुड़ी होती है। कुछ यादें इतनी खूबसूरत होती है कि उन्हें याद करते ही होठों पर एक मुस्कराहट तैर जाती है तो कुछ यादें इतनी कड़वी होती है कि उन्हें याद करके मन कड़वाहट से भर जाता है। मन में किसी के प्रति घृणा और बदले की भावना उठने लगती है। कुछ यादें तो इतनी दर्दनाक होती है कि उसके बारे में सोचते ही आंखों में आंसू आ जाते हैं और सूखे हुए जख्म फिर से हरे हो जाते हैं। वैसे इन बीती यादों को याद करके कुछ हासिल तो नहीं होता। हां इतना जरूर होता है कि आपके वर्तमान की खुशियों पर भी ग्रहण लग जाता है। हालांकि इतनी बात तो आप भी जानते हैं कि जो बीत गया उसे ना तो बदला जा सकता है और ना ही वापस लाया जा सकता है। फिर भी आप उन बीती बातों को बार-बार याद करके अपने आप को दुखी करते रहते हैं। लेकिन सोचने वाली बात यह है कि आखिर कब तक आप इन बीती यादों का बोझ ढोते रहेंगे। कभी ना कभी तो आपको इन बुरी यादों से छुटकारा पाना ही होगा। वरना आप अपने जीवन में कभी आगे नहीं बढ़ पाएंगे।


इसे भी पढ़ें-: तनाव मुक्त जीवन जीने के 12 सरल सूत्र


बुरी यादें पैरों में बंधे हुए पत्थर की तरह होती है। जो आपको आगे बढ़ने से रोकती है, इसलिए आपको यह तय करना होगा कि उस पत्थर को घसीट कर चलना है या उसे उतार कर फेंक देना है। आपको यह तय करना होगा कि आप अपनी यादों का गुलाम बन कर रहना चाहते हैं या उससे आजाद होना चाहते हैं। देखिए बिस्तर पर पड़े रह कर बीते कल के बारे में सोचना आसान है, बजाय सीधे खड़े का वर्तमान का सामना करने से। इसीलिए लोगों को यह दर्द आरामदायक लगता है। बीते वक्त की यादें उन्हें दर्द भी दे रही होती है लेकिन चुंकि यह दर्द काफी जाना पहचाना होता है इसलिए लोग इस दर्द के साथ भी कुछ सुकून सा महसूस करते हैं। लेकिन कुछ समय बाद उन्हें पता चलता है कि वे अब आगे बढ़ने के लायक ही नही रहें।उनके अंदर आगे बढ़ने की इच्छा ही खत्म हो जाती है और एक दिन ऐसा भी आता है कि उनके पास सिवाय यादों के और कुछ नहीं बचता।


इसे भी पढ़ें-: हमेशा खुश रहने के 10 बेहतरीन उपाय


याद रखें आपका अतीत आपके वर्तमान को बेहतर नहीं बना सकता। हां अगर अतीत की खूबसूरत यादों को याद करके अगर आप को प्रेरणा मिलती है आपको खुशी मिलती है तो फिर कुछ हद तक ठीक है लेकिन अतीत की कड़वी यादों को सहेज कर रखना। आपके वर्तमान और भविष्य दोनों के लिए खतरनाक है। बीते कल के बुरे अनुभवों को दिल में रखने से केवल दर्द ही मिलता है। इसलिए बीते कल में अगर आपके साथ कुछ बुरा हुआ है तो उसे भुल कर अपने आज को बेहतर बनाने पर ध्यान दें। अगर आपका कोई अपना आपको छोड़कर चला गया हो तो उसे भुला दिजिए क्योंकि आपके रोने से वह वापस नहीं लौट सकता। अगर कभी किसी ने आपको धोखा दिया हो तो उसका फैसला ईश्वर पर छोड़िए ना।क्यों इतना टेंशन ले रहे हैं। जाने अनजाने में आपसे कोई भूल हो गई हो तो अब अफसोस करना छोड़िए क्योंकि बार-बार उसके बारे में सोच कर आपको कुछ भी हासिल नहीं होने वाला। बीते कल को याद करके आप केवल अपने दुख और तकलीफ ही बढ़ाएंगे। इसलिए जो बीत चुका है उसके बारे में सोच कर दुखी होने से अच्छा है कि उसे खुले दिल से स्वीकार करके अपने वर्तमान और भविष्य को बेहतर बनाया जाए। और भविष्य की तरफ आगे बढ़ने के लिए बीती यादों के बोझ को उतार फेंकना सबसे जरूरी है।


इसे भी पढ़ें-: मनुष्य जीवन का उद्देश्य क्या है क्या है, जीवन का अर्थ


कई बार यह भी देखने में आता है कि कुछ लोग अपनी पिछली असफलताओं के बोझ से इतने दबे रहते हैं कि सफलता की दिशा में दोबारा कदम बढ़ाने की हिम्मत ही नहीं कर पाते। लेकिन याद रखें, गलतियां करने वाले आप अकेले नहीं हैं दुनिया में शायद ही कोई ऐसा व्यक्ति होगा जिससे गलतियां ना हुई हो लेकिन पिछली गलतियों से डरकर दोबारा प्रयास ना करना उससे भी बड़ी गलती है। अगर आप किसी सफल व्यक्ति की जीवनी को पढ़ेंगे। तब आपको पता चलेगा कि उनसे कितनी गलतियां हुई है लेकिन वे विफलताओं के नीचे नहीं दबे बल्कि उन्होंने अपनी विफलताओं से सीखा और जीवन में आगे बढ़ते चले गए। याद रखिए जो इंसान बीती यादों को याद करके दुखी होता रहता है वह अपने जीवन में आने वाली नई खुशियों को भी खो देता है।


हमारा यूट्यूब वीडियो देखना ना भूलें 👉बुरी यादों को कैसे भुलें, best motivational video for life


इस आर्टिकल के विषय में अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। आप चाहे तो हमारे साथ Facebook, Instagram,Pinterest,Quora और YouTube channel के माध्यम से भी जुड़ सकते हैं।

धन्यवाद 🙏

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां