देश भक्ति और राष्ट्र निर्माण पर जबरदस्त भाषण| desh bhakti bhashan

Desh bhakti speech in hindi, desh bhakti bhashan
 desh bhakti bhashan


देश भक्ति और राष्ट्र निर्माण पर भाषण|desh bhakti speech in Hindi

दोस्तों हर वर्ष हम स्वतंत्रता दिवस को बड़े धूमधाम के साथ मनाते हैं। हर वर्ष 15 अगस्त के दिन हम अपने राष्ट्रीय ध्वज तिरंगा को बड़े ही शान के साथ फहराते हैं, राष्ट्रगान गाते हैं, खुशियां मनाते हैं। इस तरह हम अपनी देशभक्ति का परिचय देते हैं, जो कि बहुत अच्छी बात है। परंतु सवाल यह उठता है कि केवल 15 अगस्त और 26 जनवरी को तिरंगा फहराने से क्या हमारी देशभक्ति साबित हो जाती है। क्या सिर्फ फेसबुक और व्हाट्सएप पर तिरंगे वाली डीपी लगाने से हमारी देशभक्ति का दायित्व पूरा हो जाता है। और क्या केवल इन्हीं 2 दिनों के लिए ही हमारी देशभक्ति जागृत होती है। दोस्तों बुरा मत मानना लेकिन आज मैं जो बातें बताने वाला हूं उसे सुनकर आप अपना आकलन खुद ही कर सकते हैं कि आप एक सच्चे देशभक्त हैं या देशद्रोही।



दोस्तों हमारा भारत देश एक स्वतंत्र देश है और हमारे देश में सभी जाति और धर्म के लोग एक साथ रहते हैं। हमारे भारतीय संविधान में सभी भारतीय नागरिकों को कई सारे मौलिक अधिकार दिए गए हैं और इसके साथ ही उनके लिए कुछ मौलिक कर्तव्य भी दिए गए हैं। जैसे कि भारत के हर नागरिक का कर्तव्य है कि

  •  वह संविधान संस्थाओं राष्ट्र गान और राष्ट्रध्वज का आदर करें।
  • अपने देश की एकता अखंडता और संप्रभुता को कायम रखें।
  • अपने देश की सेवा करें, अपने देश की रक्षा करें।
  • अपने देश के सभी लोगों में समरसता और एक समान भाईचारे की भावना निर्माण करें।
  • कहीं भी किसी के साथ जातीयता और धार्मिक भाषा का भेदभाव ना रखें।
  • प्राकृतिक प्राकृतिक संपदा जैसे- पर्वत, वन, नदियां, झील और वन्यजीवों का संरक्षण करें।
  • सर्वजनिक संपत्ति की देखभाल करें।
  • किसी प्रकार के मानसिक या शारीरिक हिंसा से दूर रहें।
ऐसे और भी कुछ मालिक कर्तव्य दिए गए हैं। लेकिन सवाल यह है कि क्या हम अपने कर्तव्यों का पालन करते हैं। क्योंकि अगर हम अपने कर्तव्यों का सही ढंग से पालन नहीं करते तो हमें देशभक्त कहलाने का कोई अधिकार नहीं है। हम देशभक्त नहीं बल्कि देशद्रोही हैं।



दोस्तों हमारे देश को आजाद हुए 73 साल हो गए हैं। फिर भी हमारा देश गरीबी, अशिक्षा, भ्रष्टाचार, कुपोषण और महंगाई जैसी समस्याओं से आज भी जूझ रहा है। क्षेत्रफल में हमारे देश का दुनिया में सातवां स्थान है और जनसंख्या में दूसरा स्थान। फिर हमारा देश मानव विकास सूचकांक में 129वें स्थान पर क्यों है। हम अन्य देशों से इतने पिछड़े क्यों हैं। इसका बस एक ही कारण है कि हमारे देश के लोग अपने कर्त्तव्यों का पालन इमानदारी से नहीं करते हैं। हमारे देश के लोग आलसी, कामचोर और अपनी जिम्मेदारियों के प्रति लापरवाह हैं। हमारे देश के लोग सड़क पर लापरवाही से गाड़ी चलाना और ट्रैफिक रूल को तोड़ना मजाक समझते हैं, भले ही इस वजह से किसी निर्दोष की जान चली जाए लेकिन उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता। ट्रेनों में बिना टिकट के यात्रा करना हम बहादुरी समझते हैं इसलिए भारतीय रेलवे हमेशा घाटे में ही चलती है। कहीं भी कूड़ा कचरा फेंक देना, पान गुटखा खाकर कहीं भी थूक देना, जहां तहां गंदगी फैलाना, कानून तोड़ना, धरना प्रदर्शन करना, उपद्रव फैलाना करना हम अपना मौलिक अधिकार समझते हैं। छोटी-छोटी बातों पर लड़ाई-झगड़ा करना अपनी शान समझते हैं। तरक्की के लिए हर तरह के हथकंडे अपनाना हम बुद्धिमानी  समझते हैं। बुजुर्गों का अपमान करना, महिलाओं के साथ छेड़खानी करना हमारा संस्कार हैं। 



मजदूर से लेकर नेता तक कोई भी अपना काम ईमानदारी से नहीं करता। चपरासी से लेकर बड़े अधिकारी तक सब भ्रष्ट हैं। हर कोई सिर्फ अपने फायदे की सोचता है। इस तरह हमारे देश का विकास कैसे होगा, हमारा देश कैसे आगे बढ़ेगा। अब खुद ही आप अपना आकलन कीजिए और बताइए कि क्या आप देशभक्ति कसौटी पर खरा उतरते हैं। क्या आप अपने कर्त्तव्यों का ईमानदारी से पालन नहीं करते तो आपको देश भक्त कहलाने का कोई अधिकार नहीं है।



दोस्तों हमारे देश को आजादी यूं ही नहीं मिली। इसे आजाद कराने में महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, खुदी राम बोस, भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद जैसे लाखों वीरों ने अपनी जान न्योछावर की है। तब जाकर हमें आजादी मिली है। अगर वे लोग भी केवल अपने हित के सोचते तो हम आज भी अंग्रेजों की गुलामी कर रहे होते। इसलिए मेरे दोस्तों आपसे निवेदन है कृपया भारत मां के उन वीर सपूतों की कुर्बानी को जाया ना होने दें। कृपया धर्म और जाति के नाम पर आपस में लड़ना छोड़े और आइए हम सब मिलकर एक सुंदर, समृद्ध और अखंड भारत का निर्माण करें। आइए एक सच्चे देशभक्त की तरह तन मन और धन से अपने दायित्व का निर्वहन करें, और सच्चे देशभक्त कहलाने के हकदार बने। दोस्तों कहने के लिए तो अभी बहुत सारी बातें हैं लेकिन अगर आप इतना ही समझ जाए तो काफी है। 


इसे भी पढ़ें-: रोंगटे खड़े कर देने वाला देशभक्ति भाषण


🇮🇳जय हिंद🇮🇳 जय भारत।🇮🇳


15 August par desh bhakti bhashan


dosto har varsh ham swatantrata divas ko bade dhoomdhaam ke saath manaate hain. har varsh 15 agast ke din ham apane raashtreey dhvaj tiranga ko bade hee shaan ke saath faharate hain, raashtragaan gaate hain, khushiyaan manaate hain. is tarah ham apani deshbhakti ka parichay dete hain, jo ki bahut achchi baat hai. parantu savaal yah uthata hai ki keval 15 august aur 26 January ko tiranga faharane se kya hamari deshbhakti saabit ho jati hai. kya sirph Facebook aur whatsapp par tirange wali dp lagaane se hamri deshbhakti ka dayitva poora ho jaata hai. aur kya keval inhi 2 dino ke lie hamari deshbhakti jagrit hoti hai. dosto bura mat manna lekin aaj main jo baten batane vaala hoon use sunakar aap apna aakalan khud hi kar sakate hain ki aap ek sachche deshbhakt hain ya deshadrohi. dosto hamara desh ek swatantra desh hai aur hamare desh mein sabhi jaati aur dharm ke log ek saath rahate hain. hamare sanvidhaan mein sabhi India citizen ki kae saare maulik adhikaar die gae hain aur isake saath hi unake lie kuchh maulik kartavya bhi die gae hain. jaise ki bharat ke har nagarik ka kartavya hai ki  vah sanvidhaan sansthaon rashtra gaan aur raashtra dhvaj ka aadar kare.   apane desh kee ekata akhandata aur samprabhuta ko kaayam rakhen.   apane desh ki seva karen. apane desh ki raksha kare.    apane desh ke sabhi logon mein samarasata aur ek samaan bhaichaare ki bhavana Ka nirman karen.   kabhi bhi kisi ke saath jaateeyata aur dharmik bhasha ka bhedbhaav na rakhen.   praakrtik sampada jaise- parvat, wan, nadiyaan, jheel aur vanyajeevon ka sanrakshan karen.   sarvajanik sampatti ki dekhbhaal karen.   kisi prakaar ke manasik ya sharirik hinsa se door rahen.   aise aur bhee kuchh maulik kartavya die gae hain. lekin savaal yah hai ki kya ham apane kartavyon ka paalan karate hain. kyonki agar ham apane kartavyon ka sahi dhang se paalan nahin karate to hamen deshbhakt kahalane ka koe adhikaar nahin hai. ham deshabhakt nahi balki deshadrohi hain. dosto hamare desh ko aajaad hue 73 saal ho gae hain. phir bhee hamara desh garibi, ashiksha, bhrashtachaar, kuposhan aur mahangai jaise samasyaon se aaj bhee joojh raha hai. shetraphal mein hamare desh ka satava sthaan hai aur janasankhya mein doosara sthaan. phir hamara desh manav vikas soochakaank mein 129ven sthaan par kyon hai. ham any desho se itane pichhade kyon hain. isaka bas ek hee kaaran hai ki hamare desh ke log apane karttavyon ka paalan imaanadari se nahin karate hain. hamare desh ke log aalsi, kaamchor aur apane jimmedaariyon ke prati laparavaah hain. hamare desh ke log sadak par laaparavaahi se gaadee chalana aur traiphik rules ko todana majaak samajhate hain, bhale hee is vajah se kisi nirdosh ki jaan chali jae lekin unhen koi pharak nahi padata. treno mein bina tikat ke yatra karna bahaduri samajhate hain isalie bharatiye relway hamesha ghaate mein hi chalati hai. kahi bhi kooda kachara phenk dena, paan gutakha khaakar kahi bhi thook dena, jahaan tahaan gandagi phailana, kanoon todana, dharana pradarshan karna, upadrav phailaana, ham apna maulik adhikaar samajhate hain. chhotee-chhotee baaton par ladai jhagada karna apani shaan samajhate hain. tarakki ke lie har tarah ke hathakande apanana ham buddhimani  samajhate hain. bujurgon ka apamaan karna, mahilao ke saath chhedakhani karna hamara to sanskaar hain.  majadoor se lekar neta tak koi bhi apna kaam imanadari se nahi karata. chaparasi se lekar bade adhikari tak sab bhrasht hain. har koi sirph apane fayde ki sochata hai. is tarah hamaare desh ka vikas kaise hoga, hamaara desh kaise aage badhega. ab khud hi aap apna aakalan kijiye aur bataiye ki kya aap desh bhakti ke kasauti par khara utarate hain. kya aap apane karttavyon ka imanadari  se paalan karate hain. agar nahin karte to aapko desh bhakt kahlane ka koi adhikaar nahin hai. dosto hamare desh ko aazadi u h nahi mili. ise aazad karane me mahatma gandhi, subhash chandra bos, khudiraam bos, bhagat Singh, rani lakshmibai aur chandrashekhar aajaad jaise laakhon veero ne apani jaan nyochhaavar ki hai. tab jakar hame aajadi mili hai. agar ve log bhi keval apane fayde ke sochate to ham aaj bhi angrejon ki gulami kar rahe hote. isalie mere doston aapalse nivedan hai kripya bharat mata ke un veer sapoton ki kurbani ko jaaya na hone den. kripya dharm aur jaati ke nam par aapas mein ladana chhod, ham sab milakar ek sundar, samriddh aur akhand bharat ka nirman karen. aaie ek sachche desh bhakt ki tarah tan man aur dhan se apane daayitva ka nirvahan karen, aur sachche deshbhakt kahalane ka hakadaar bane. doston kahane ke lie to abhi bahut sari baaten hain lekin agar aap itana hee samajh jae to kafi hai. 


jay hind🇮🇳 jay bhaarat.🇮🇳

🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳


इसे भी पढ़ें-: हमारे देश में बलात्कार की इतनी घटनाएं क्यों होतीं है ?


Desh bhakti speech in english


Friends, every year we celebrate Independence Day with great pomp. Every year on August 15, we hoist our national flag tricolour with great pride, sing the national anthem, and celebrate happiness. In this way, we introduce our patriotism, which is a very good thing. But the question arises whether only by hoisting the tricolour on 15 August and 26 January can our patriotism be proved. Does our patriotic obligation only be fulfilled by applying Tricolor DP on Facebook and WhatsApp? And is it only for these 2 days that our patriotism is awakened? Friends, don't mind, but by listening to the things I am going to tell you today, you can make your own assessment whether you are a true patriot or a traitor. Friends, our country is an independent country and people of all castes and religions live together in our country. In our constitution, all Indian citizens have been given many fundamental rights and at the same time, some fundamental duties have also been given to them. Like every citizen of India has a duty to He should respect constitution bodies, national anthem and the national flag. Maintain the unity, integrity and sovereignty of your country. Serve your country, protect your country. Build a sense of harmony and common brotherhood among all the people of your country. Do not discriminate ethnicity and religious language with anyone anywhere. Conserve natural resources such as mountains, forests, rivers, lakes and wildlife. Take care of the public property. Stay away from any type of mental or physical violence. Some more such owner duties have been given. But the question is whether we perform our duties. Because if we do not perform our duties properly then we have no right to be called patriots. We are not patriots but traitors. Friends, it has been 73 years since our country was liberated. Yet our country is still facing problems like poverty, illiteracy, corruption, malnutrition and inflation. Our country ranks seventh in the world in area and second in population. Then why is our country ranked 129 in the Human Development Index? Why are we so backward from other countries. The only reason for this is that the people of our country do not follow their duties honestly. The people of our country are lazy, lazy and careless about their responsibilities. People of our country consider it a joke to drive carelessly on the road and break the traffic rules, even if this results in the loss of an innocent but they do not mind. We consider bravery to travel without tickets in trains, so Indian Railways always run in losses. We throw garbage anywhere, eat pan gutkha and spit it anywhere, where we spread dirt, break the law, protest, pick up violence, we consider it our fundamental right. Fighting and fighting over small things is considered his pride. We consider it wise to adopt all kinds of tricks for progress. Insulting the elderly, flirting with women is our rite. Nobody does their work honestly from worker to leader. Everyone from a peon to a high official is corrupt. Everyone thinks only of their own benefit. In this way how will our country develop, how will our country move forward? Now make your own assessment and tell if you meet the patriotic criteria. If you do not follow your duties honestly, then you have no right to be called patriotic. Friends, our country did not get independence like this. In liberating it, millions of heroes like Mahatma Gandhi, Subhash Chandra Bose, Khudiram Bose, Bhagat Singh, Rani Laxmibai and Chandrashekhar Azad have sacrificed their lives. Then we have got freedom. If those people also thought only of their own interest then we would have been slavery of the British even today. Therefore my friends request you, please do not let the sacrifice of those brave sons of Mother India go away. Please stop fighting among ourselves in the name of religion and caste and let us all together create a beautiful, prosperous and united India. Let us discharge our responsibilities with true mind and wealth like a true patriot, and be entitled to be a true patriot. There are too many things to say to friends, but if you understand this much then it is enough. jay Hind🇮🇳 Jai Bharat.



दोस्तों इस आर्टिकल के विषय में अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर लिखें। और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों-रिश्तेदारों को शेयर करना ना भूलें। और हां आप चाहे तो हमारे साथ Facebook, Instagram,Pinterest,Quora और YouTube channel के माध्यम से भी जुड़ सकते हैं।

धन्यवाद 🙏



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां