inspirational speech in hindi | इंसान हमेशा वक्त से हार क्यों जाता है?

Motivational thoughts in hindi|inspirational speech in hindi

inspirational speech in hindi, Motivational thoughts in hindi
         Waqt ki takat
एक बार किसी इंसान ने वक्त से पुछा, "मैं हमेशा तुमसे हार क्यों जाता हूं।"
वक्त ने जो जवाब दिया "वह पढ़ने लायक है।" पढ़िए वक्त ने क्या कहा। 

वक्त और इंसान


वक्त ने जवाब दिया- मैं हमेशा तुमसे इसलिए जीत जाता हूं क्योंकि मैं हमेशा चलता रहता हूं। मैं उस वक्त भी चलता रहता हूं जब तुम सोए रहते हो,जब तुम भुत और भविष्य की चिंताओं में खोए रहते हो। मै उस वक्त भी चलता ही रहता हूं जब तुम बैठकर पिछली गलतियों के लिए पछताते रहते हो। जब तुम आराम से बैठ कर सुस्ताते रहते हो। मगर मैं हरदम चलता रहता हूं। चाहे धुप हो या छांव हो,चाहे गर्मी हो या बरसात हो या चाहे जैसे भी हालात हो मगर मैं हमेशा चलता ही रहता हूं। इसलिए मैं हमेशा तुमसे जीत जाता हूं और तुम हमेशा मुझसे हार जाते हो। अगर तुम मुझसे जीतना चाहते हो तो तुम्हें मेरेेेेेे साथ कदम से कदम मिलाकर चलना होगा।



दोस्तों वक्त बड़ा बलवान होता है इसलिए ये सारा यूनिवर्स वक्त का गुलाम है। ये सूर्य, ये पृथ्वी, ये चांद, ये वायु, ये नदियां और ये सारी कायनात वक्त के इशारों पर उसके साथ साथ चल रही है। लेकिन हम इंसान ही आज तक वक्त के साथ चलना नहीं सीख सके हैं। हम बार-बार अपने लक्ष्य से भटक जाते हैं। हम बार-बार जीवन की उलझनों में अटक जाते हैं इसलिए हम हर बार वक्त से हार जाते है और वक्त हर बार हमसे जीत जाता है। परंतु बजाए इसके कि हम वक्त के साथ चलना सीखें, हम वक्त को ही दोषी ठहराने लगते हैं। 


जब हमसे कोई ट्रेन मिस हो जाती है तो हम कहते हैं कि ट्रेन छूट गई जबकि हमें ये कहना चाहिए कि हम छुट गए। ट्रेन तो अपने वक्त पर चली गई। हम इंसानों की हमेशा से आदत है अपनी कमियों के लिए दुसरो को दोषी ठहराने की। इसलिए हम हर वक्त को ही दोषी ठहराते हैं। हमे लगता है कि वक्त हमारा साथ नहीं दे रहा है या हमारा बुरा वक्त चल रहा है। लेकिन वास्तविकता यह है कि वक्त ना किसी के लिए अच्छा चलता है और ना किसी के लिए बुरा चलता है वह तो हमेशा अपने हिसाब से ही चलता है। जीवन के सफर में जब कोई हमे अकेला छोड़ देता है या हम जीवन की कठिनाईयों से हार कर निराश हो जाते हैं तो हमें लगता है कि वक्त पीछे छूट गया है। फिर हम वहीं पर ठहर जाते है। लेकिन वक्त नहीं ठहरता वह निरंतर चलता ही रहता है। हम बैठकर इंतजार करते रहते हैं कि एक दिन हमारा वक्त आयेगा लेकिन वास्तव में वक्त हमसे आगे निकल चुका होता है। और एक दिन अचानक हमको एहसास होता है कि अब तो हमारे पास वक्त ही नहीं है। उसी वक्त हमें इस बात का पछतावा होता है  कि हमनेे अपने वक्त को किस कदर बर्बाद किया है, मगर अफसोस ! उस वक्त पछतानेे से कोई लाभ नहीं होता क्योंकि हमारा आखिरी वक्त आ चुका होता है।



 तो दोस्तो इस पोस्ट के माध्यम से हम आपसे यही संदेश देना चाहते हैं कि चाहे कितने भी बुरे हालात हो मगर आप कभी रुकना मत, कोई साथ दे या ना दे, मगर आप अकेले ही चलते रहना, हमेशा जीवन में आगे बढ़ते रहना क्योंकि मंजिल चाहे कितनी भी दूर हो लेकिन जो निरंतर चलता रहता है वह एक ना एक दिन अपने मंजिल तक पहुंच ही जाता है। 





कृपया इस आर्टिकल के विषय में अपनी राय नीचे कमेंट बॉक्स में जरुर प्रकट करें और इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों को शेयर करें। हम से जुड़े रहने के लिए हमें Facebook, और Instagram जरूर फॉलो करें। आप हमारे YouTube channel पर जाकर हमारा motivational video भी देख सकते हैं। 

धन्यवाद 🙏


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां